जब बीरबल बच्चा बना - अकबर बीरबल की कहानी - HindiFiles.com - The Best Hindi Blog For Stories, Quotes, Status & Motivational Content.
हाल ही मे किए गए पोस्ट
Loading...

09 February, 2020

जब बीरबल बच्चा बना - अकबर बीरबल की कहानी

जब बीरबल बच्चा बना - अकबर बीरबल की कहानी 

एक दिन बीरबल दरबार में देर से पहुंचा। जब बादशाह ने देरी का कारण पूछा तो वह बोला, “मैं क्या करता हुजूर ! मेरे बच्चे आज जोर-जोर से रोकर कहने लगे कि दरबार में न जाऊं। किसी तरह उन्हें बहुत मुश्किल से समझा पाया कि मेरा दरबार में हाजिर होना कितना जरूरी है। इसी में मुझे काफी समय लग गया और इसलिए मुझे आने में देर हो गई।”

बादशाह को लगा कि बीरबल बहानेबाजी कर रहा है।

बीरबल के इस उत्तर से बादशाह को तसल्ली नहीं हुई। वे बोले, “मैं तुमसे सहमत नहीं हूं। किसी भी बच्चे को समझाना इतना मुश्किल नहीं जितना तुमने बताया। इसमें इतनी देर तो लग ही नहीं सकती।”

बीरबल हंसता हुआ बोला, “हुजूर ! बच्चे को गुस्सा करना या डपटना तो बहुत सरल है। लेकिन किसी बात को विस्तार से समझा पाना बेहद कठिन।”

अकबर बोले, “मूर्खों जैसी बात मत करो। मेरे पास कोई भी बच्चा लेकर आओ। मैं तुम्हें दिखाता हूं कि कितना आसान है यह काम।” “ठीक है, जहांपनाह !” बीरबल बोला, “मैं खुद ही बच्चा बन जाता हूँ और वैसा ही व्यवहार करता हूं। तब आप एक पिता की भांति मुझे संतुष्ट करके दिखाएं।”

फिर बीरबल ने छोटे बच्चे की तरह बर्ताव करना शुरू कर दिया। उसने तरह-तरह के मुंह बनाकर अकबर को चिढ़ाया और किसी छोटे बच्चे की तरह दरबार में यहां-वहां उछलने-कूदने लगा। उसने अपनी पगड़ी जमीन पर फेंक दी। फिर वह जाकर अकबर की गोद में बैठ गया और लगा उनकी मूछों से छेड़छाड़ करने।

बादशाह कहते ही रह गए, “नहीं…नहीं मेरे बच्चे ! ऐसा मत करो। तुम तो अच्छे बच्चे हो न।” सुनकर बीरबल ने जोर-जोर से चिल्लाना शुरू कर दिया। तब अकबर ने कुछ मिठाइयां लाने का आदेश दिया, लेकिन बीरबल जोर-जोर से चिल्लाता ही रहा।

अब बादशाह परेशान हो गए, लेकिन उन्होंने धैर्य बनाए रखा। वह बोले, “बेटा ! खिलौनों से खेलोगे ? देखो कितने सुंदर खिलौने हैं।” बीरबल रोता हुआ बोला, “नहीं, मैं तो गन्ना खाऊंगा।” अकबर मुस्कराए और गन्ना लाने का आदेश दिया।

थोड़ी ही देर में एक सैनिक कुछ गन्ने लेकर आ गया। लेकिन बीरबल का रोना नहीं थमा। वह बोला, “मुझे बड़ा गन्ना नहीं चाहिए, छोटे-छोटे टुकड़े में कटा गन्ना दो।”

अकबर ने एक सैनिक को बुलाकर कहा कि वह एक गन्ने के छोटे-छोटे टुकड़े कर दे। यह देखकर बीरबल और जोर से रोता हुआ बोला, “नहीं, सैनिक गन्ना नहीं काटेगा। आप खुद काटें इसे।”

अब बादशाह का मिजाज बिगड़ गया। लेकिन उनके पास गन्ना काटने के अलावा और कोई चारा न था। और करते भी क्या ? खुद अपने ही बिछाए जाल में फंस गए थे वह।

गन्ने के टुकड़े करने के बाद उन्हें बीरबल के सामने रखते हुए बोले अकबर, “लो इसे खा लो बेटा।”
अब बीरबल ने बच्चे की भांति मचलते हुए कहा, “नहीं मैं तो पूरा गन्ना ही खाऊंगा।”
बादशाह ने एक साबुत गन्ना उठाया और बीरबल को देते हुए बोले, “लो पूरा गन्ना और रोना बंद करो।”
लेकिन बीरबल रोता हुआ ही बोला, “नहीं, मुझे तो इन छोटे टुकड़ों से ही साबुत गन्ना बनाकर दो।”
“कैसी अजब बात करते हो तुम ! यह भला कैसे संभव है ?” बादशाह के स्वर में क्रोध भरा था।
लेकिन बीरबल रोता ही रहा। बादशाह का धैर्य चुक गया। बोले, “यदि तुमने रोना बन्द नहीं किया तो मार पड़ेगी तब।”

अब बच्चे का अभिनय करता बीरबल उठ खड़ा हुआ और हंसता हुआ बोला, “नहीं…नहीं ! मुझे मत मारो हुजूर ! अब आपको पता चला कि बच्चे की बेतुकी जिदों को शांत करना कितना मुश्किल काम है ?”
बीरबल की बात से सहमत थे अकबर, बोले, “हां ठीक कहते हो। रोते-चिल्लाते जिद पर अड़े बच्चे को समझाना बच्चों का खेल नहीं।”

When Birbal become baby - Akbar Birbal Story

Once Birbal reached the court late. When the king asked for the delay, he said, "What can I do! My children started crying loudly and did not go to the court. Somehow he found it very difficult to understand why it is important to be present in my court. This took me a long time and so I was late in coming. "

The King felt that Birbal was doing excuses.

This reply of Birbal did not satisfy the king. They said, "I do not agree with you. Explaining to any child is not as difficult as you said. It can not seem so long. "
Birbal said laughing, "Hurray! It is very easy to anger or scold a child. But it is very difficult to understand anything in detail. "
Akbar said, "Do not talk like fools. Bring any child to me I'll show you how easy it is. "" Okay, where is the dream! "Birbal said," I myself become a child and behave like that. Then you show me a satisfaction like a father. "

Then Birbal started behaving like a small child. He teased Akbar by making different types of mouths, and like a small child, he started jumping around in the court. He threw his turban on the ground. Then he went and sat in Akbar's lap and thought that he had to molest his mustache.
The king said, "No ... no, my child! Do not do this. You are a good child. "Birbal started shouting loudly. Then Akbar ordered some sweets to be brought, but Birbal was shouting loudly.

Now the Emperor got upset, but he maintained patience. He said, "Son! Play with toys? Look how beautiful toys are. "Birbal cried," No, I will eat sugarcane. "Akbar ordered a smile and bring sugarcane.

In a short while a soldier came with some sugarcane. But Birbal's cry did not stop. He said, "I do not want big sugarcane, put small pieces of chopped sugarcane."
Akbar called a soldier and said that he would make small pieces of sugarcane. Seeing Birbal and crying loudly, "No, the soldier will not harvest sugarcane. You cut it yourself. "
Now the mood of the king has worsened, and the mood of the king has worsened. But they had no choice but to cut sugarcane. And what do you do? He himself was trapped in his own trap.

After splitting sugarcane, he kept Akbar in front of Birbal and said, "Take it to eat son."
Now Birbal, like a child, said, "No, I will eat whole grain."
The Emperor picked up a whole lot of sugarcane and offered Birbal, and said, "Take complete sugarcane and stop crying."
But Birbal said only crying, "No, let me make whole sugarcane with these small pieces."
"What a strange thing you are talking about! How is this possible? "There was anger in the king's voice.

But Birbal kept crying. The King's patience was lost. "If you do not stop crying then you will be killed."
Now Birbal, who acted as a child stood up and said laughing, "No ... no! Do not kill me! Now you know how difficult it is to calm the child's stubbornness? "
Akbar, who agreed with Birbal, said, "Yes, you are right. It is not a child's play to convince a rowdy child to cry. " 

अपने मित्रों के साथ शेयर करें

अपने सुझाव और विचार लिखें
Notification
Hindi Files is Under Maintenance, Please Check later for full version.
Done