पंडित जी - अकबर बीरबल की कहानी - HindiFiles.com - The Best Hindi Blog For Stories, Quotes, Status & Motivational Content.
हाल ही मे किए गए पोस्ट
Loading...

08 February, 2020

पंडित जी - अकबर बीरबल की कहानी

पंडित जी - अकबर बीरबल की कहानी 

शाम ढलने को थी। सभी आगंतुक धीरे-धीरे अपने घरों को लौटने लगे थे। तभी बीरबल ने देखा कि एक मोटा-सा आदमी शरमाता हुआ चुपचाप एक कोने में खड़ा है। बीरबल उसके निकट आता हुआ बोला, “लगता है तुम कुछ कहना चाहते हो। बेहिचक कह डालो जो कहना है। मुझे बताओ, तुम्हारी क्या समस्या है ?”

वह मोटा व्यक्ति सकुचाता हुआ बोला, “मेरी समस्या यह है कि मैं पढ़ा-लिखा नहीं हूं। मैंने अपनी शिक्षा पर ध्यान नहीं दिया जिसका मुझे खेद है। मैं भी समाज में सिर उठाकर सम्मान से जीना चाहता हूं। पर अब नहीं लगता है ऐसा कभी नहीं हो पाएगा।”

“नहीं कोई देर नहीं, ऐसा जरूर होगा यदि तुम हिम्मत न हारो और परिश्रम करो। तुममें भी योग्यता है” बीरबल ने कहा।

“लेकिन ज्ञान पाने में तो सालों लग जाएंगे।” मोटे आदमी ने कहा, “मैं इतना इंतजार नहीं कर सकता। मैं तो यह जानना चाहता हूँ कि क्या कोई ऐसा तरीका है कि चुटकी बजाते ही प्रसिद्धि मिल जाए।”

प्रसिद्धि पाने का ऐसा आसान रास्ता तो कोई नहीं है।” बीरबल बोला, “यदि तुम वास्तव में योग्य और प्रसिद्ध कहलवाना चाहते हो, तो मेहनत तो करनी ही होगी। वह भी कुछ समय के लिए।”

यह सुनकर मोटा आदमी सोच में डूब गया। “नहीं मुझमें इतना धैर्य नहीं है।” मोटे आदमी ने कहा, “मैं तो तुरंत ही प्रसिद्धि पाकर ‘पंडित जी’ कहलवाना चाहता हूं।”

“ठीक है।” बीरबल बोला, “इसके लिए तो एक ही उपाय है। कल तुम बाजार में जाकर खड़े हो जाना। मेरे भेजे आदमी वहां होंगे, जो तुम्हें पंडित जी कहकर पुकारेंगे। वे बार-बार जोर-जोर से ऐसा कहेंगे। इससे दूसरे लोगों का ध्यान इस ओर जाएगा, वे भी तुम्हें पंडित जी कहना शुरू कर देंगे। ऐसा होना स्वाभाविक भी है। लेकिन हमारा नाटक तभी सफल होगा जब तुम गुस्सा दिखाते हुए उन पर पत्थर फेंकने लगोगे या हाथ में लाठी लेकर उनको दौड़ाना होगा तुम्हें। लेकिन सतर्क रहना, गुस्से का सिर्फ दिखावा भर करना है तुम्हें। किसी को चोट नहीं पहुंचनी चाहिए।”

उस समय तो वह मोटा आदमी कुछ समझ नहीं पाया और घर लौट गया।

अगली सुबह वह मोटा आदमी बीरबल के कहेनुसार व्यस्त बाजार में जाकर खड़ा हो गया। तभी बीरबल के भेजे आदमी वहां आ पहुंचे और तेज स्वर में कहने लगे- “पंडितजी…पंडितजी…पंडितजी…।”

मोटे आदमी ने यह सुन अपनी लाठी उठाई और भाग पड़ा उन आदमियों के पीछे। जैसे सच ही में पिटाई कर देगा। बीरबल के भेजे आदमी वहां से भाग निकले, लेकिन पंडितजी..पंडितजी…का राग अलापना उन्होंने नहीं छोड़ा। कुछ ही देर बाद आवारा लड़कों का वहां घूमता समूह ‘पंडितजी…पंडितजी…’ चिल्लाता हुआ उस मोटे आदमी के पास आ धमका।

बड़ा मजेदार दृश्य उपस्थित हो गया था। मोटा आदमी लोगों के पीछे दौड़ रहा था और लोग ‘पंडितजी…पंडितजी…’ कहते हुए नाच-गाकर चिल्ला रहे थे।

अब मोटा आदमी पंडितजी के नाम से प्रसिद्ध हो गया। जब भी लोग उसे देखते तो पंडितजी कहकर ही संबोधित करते। अपनी ओर से तो लोग यह कहकर उसका मजाक उड़ाते थे कि वह उन पर पत्थर फेंकेगा या लाठी लेकर उनके पीछे दौड़ेगा। लेकिन उन्हें क्या पता था कि मोटा तो चाहता ही यही था। वह प्रसिद्ध तो होने ही लगा था।
इसी तरह महीनों बीत गए।

मोटा आदमी भी थक चुका था। वह यह भी समझ गया था कि लोग उसे सम्मानवश पंडितजी नहीं कहते, बल्कि ऐसा कहकर तो वे उसका उपहास करते हैं। लोग जान गए थे कि पंडित कहने से उसे गुस्सा आ जाता है। वह सोचता था कि शायद लोग मुझे पागल समझते हैं। यह सोचकर वह इतना परेशान हो गया कि फिर से बीरबल के पास जा पहुंचा।

वह बोला, “मैं मात्र पंडितजी कहलाना नहीं चाहता। वैसे मुझे स्वयं को पंडित कहलवाना पसंद है और कुछ समय तक यह सुनना मुझे अच्छा भी लगा। लेकिन अब मैं थक चुका हूं। लोग मेरा सम्मान नहीं करते, वो तो मेरा मजाक उड़ाते हैं।”

मोटे आदमी को वास्तविकता का आभास होने लगा था।

मोटे आदमी को यह कहता देख बीरबल हंसता हुआ यह बोला, “मैंने तो तुमसे पहले ही कह दिया था कि तुम बहुत समय तक ऐसा नहीं कर पाओगे। लोग तुम्हें वह सब कैसे कह सकते हैं, जो तुम हो ही नहीं। क्या तुम उन्हें मूर्ख समझते हो? जाओ, अब कुछ समय किसी दूसरे शहर में जाकर बिताओ। जब लौटो तो उन लोगों को नजरअंदाज कर देना जो तुम्हें पंडितजी कहकर पुकारें। एक अच्छे, सभ्य व्यक्ति की तरह आचरण करना। शीघ्र ही लोग समझ जाएंगे कि ‘पंडितजी’ कहकर तुम्हारा उपहास करने में कुछ नहीं रक्खा और वे ऐसा कहना छोड़ देंगे।”

मोटे आदमी ने बीरबल के निर्देश पर अमल किया।

जब वह कुछ माह बाद दूसरे शहर से लौटकर आया तो लोगों ने उसे पंडितजी कहकर परेशान करना चाहा, लेकिन उसने कोई ध्यान न दिया। अब वह मोटा आदमी खुश था कि लोग उसे उसके असली नाम से जानने लगे हैं। वह समझ गया था कि प्रसिद्धि पाने की सरल राह कोई नहीं है।

Pandit ji - Akbar Birbal Story

The dusk was about to fall. All the visitors were slowly returning to their homes. Birbal noticed that a fat man was shy and quietly standing in a corner. Birbal came near to him saying, "It seems you want to say something. Speak out everything without hesitation. Tell me, what's your problem? "

The fat person said, "My problem is that I am not educated. I did not pay attention to my education which I am sorry for. I also want to take pride in living in society and live in respect. But now it does not seem that it will never happen. "

"No, no longer, it will definitely happen if you do not lose courage and work hard. You have the ability too. "Birbal said.

"But knowledge will take years to find." The fat man said, "I can not wait so much. I just want to know if there is any way to get fame as a pinch. "

There is no such an easy way to get fame. "Birbal said," If you really want to be qualified and famous, you have to do hard work. That too for some time. "

A fat man drowned in thinking this. "No, I do not have such patience." The fat man said, "I want to be called Pandit ji immediately after getting fame."

"Okay." Birbal said, "There is only one solution for this. Tomorrow you stand in the market and stand up. The men who sent me will be there, who will call you Panditji. They will say this repeatedly loudly. This will lead the attention of other people, they will also start to call you Pandit Ji. It is obvious. But our drama will succeed only if you start showing anger, throwing stones at them or carrying a blackjack in your hand, you have to run it. But be careful, you have to fill the show of anger only. Nobody should get hurt. "

At that time the fat man could not understand anything and returned home.

The next morning, a fat man stood up in a busy market, saying the words of Birbal. At that time the man sent from Birbal came there and said in a loud voice: "Panditji ... panditji ... panditji ...."
The obese man picked up his black stick and ran away behind those men As if he would literally beat. The man sent from Birbal escaped from there, but he did not leave the chanting of Panditji..Panditji .... After a while, the boys roaming around there, 'Panditji ... Panditji ...' screaming to the fat man, threatening to come.

A very funny scene was created. The fat man was running behind the people and people were screaming and singing like 'Panditji ... Panditji ...'.

Now the fat man became famous as Panditji. Whenever people see him, he is addressed as a sage Panditji. From their side, people used to mock him by saying that he would throw stones at them or take a stick and run after them. But what did he know was that he wanted to be fat. He was supposed to be famous.

Likewise, months passed by.

The fat man too was tired. He also understood that people are not respected by him as a saint, but by saying this, they ridicule him. People had come to know that being a priest, he gets angry. He used to think that maybe people think me crazy. Thinking he was so upset that he got back to Birbal again.
He said, "I just do not want to be called Panditji. Well I like to call myself a Pandit and I have been good to hear it for some time. But now I'm tired. People do not respect me, they just make fun of me. "

The fat man seemed to be realizing the reality.

Seeing a fat man laughing Birbal said, "I had already told you that you will not be able to do this for a long time. How can people tell you all that, which you are not? Do you consider them a fool? Go, spend some time in another city. When you come back, ignore those people who call you Panditji. Behave like a good, decent person. Soon people will understand that by saying 'Panditji' you do not have anything to ridicule and they will say so. "

The fat man executed the instructions of Birbal.

When he returned from another city after a few months, people tried to disturb him by saying it as a pandit, but he did not give any attention. Now the fat guy was happy that people started to know him by his real name. He understood that there is no easy way to get fame. 

अपने मित्रों के साथ शेयर करें

अपने सुझाव और विचार लिखें
Notification
Hindi Files is Under Maintenance, Please Check later for full version.
Done