पैर और चप्पल - अकबर बीरबल की कहानी - HindiFiles.com - The Best Hindi Blog For Stories, Quotes, Status & Motivational Content.
हाल ही मे किए गए पोस्ट
Loading...

08 February, 2020

पैर और चप्पल - अकबर बीरबल की कहानी

पैर और चप्पल - अकबर बीरबल की कहानी

बीरबल बहुत नेक दिल इंसान थे। वह सैदव दान करते रहते थे और इतना ही नहीं, बादशाह से मिलने वाले इनाम को भी ज्यादातर गरीबों और दीन-दुःखियों में बांट देते थे, परन्तु इसके बावजूद भी उनके पास धन की कोई कमी न थी। दान देने के साथ-साथ बीरबल इस बात से भी चौकन्ने रहते थे कि कपटी व्यक्ति उन्हें अपनी दीनता दिखाकर ठग न लें।

ऐसे ही अकबर बादशाह ने दरबारियों के साथ मिलकर एक योजना बनाई कि देखें कि सच्चे दीन दुःखियों की पहचान बीरबल को हो पाती है या नही। बादशाह ने अपने एक सैनिक को वेश बदलवाकर दीन-हीन अवस्था में बीरबल के पास भेजा कि अगर वह आर्थिक सहायता के रूप में बीरबल से कुछ ले आएगा, तो अकबर की ओर से उसे इनाम मिलेगा।

एक दिन जब बीरबल पूजा-पाठ करके मंदिर से आ रहे थे तो भेष बदले हुए सैनिक ने बीरबल के सामने आकर कहा, “हुजूर दीवान! मैं और मेरे आठ छोटे बच्चे हैं, जो आठ दिनों से भूखे हैं....भगवान का कहना है कि भूखों को खाना खिलाना बहुत पुण्य का कार्य है, मुझे आशा है कि आप मुझे कुछ दान देकर अवश्य ही पुण्य कमाएंगे।”

बीरबल ने उस आदमी को सिर से पांव तक देखा और एक क्षण में ही पहचान लिया कि वह ऐसा नहीं है, जैसा वह दिखावा कर रहा है।

बीरबल मन ही मन मुस्कराए और बिना कुछ बोले ही उस रास्ते पर चल पडे़ जहां से होकर एक नदी पार करनी पड़ती थी। वह व्यक्ति भी बीरबल के पीछे-पीछे चलता रहा। बीरबल ने नदी पार करने के लिए जूती उतारकर हाथ में ले ली। उस व्यक्ति ने भी अपने पैर की फटी पुरानी जूती हाथ में लेने का प्रयास किया।

बीरबल नदी पार कर कंकरीले मार्ग आते ही दो-चार कदम चलने के बाद ही जूती पहन लेता। बीरबल यह बात भी गौर कर चुके थे कि नदी पार करते समय उसका पैर धुलने के कारण वह व्यक्ति और भी साफ-सुथरा, चिकना, मुलायम गोरी चमड़ी का दिखने लगा था इसलिए वह मुलायम पैरों से कंकरीले मार्ग पर नहीं चल सकता था।

“दीवानजी! दीन ट्टहीन की पुकार आपने सुनी नहीं?” पीछे आ रहे व्यक्ति ने कहा।
बीरबल बोले, “जो मुझे पापी बनाए मैं उसकी पुकार कैसे सुन सकता हूँ? ”
“क्या कहा? क्या आप मेरी सहायता करके पापी बन जांएगे?”

“हां, वह इसलिए कि शास्त्रों में लिखा है कि बच्चे का जन्म होने से पहले ही भगवान उसके भोजन का प्रबन्ध करते हुए उसकी मां के स्तनों में दूध दे देता है, उसके लिए भोजन की व्यव्स्था भी कर देता है। यह भी कहा जाता है कि भगवान इन्सान को भूखा उठाता है पर भूखा सुलाता नहीं है। इन सब बातों के बाद भी तुम अपने आप को आठ दिन से भूखा कह रहे हो। इन सब स्थितियों को देखते हुए यहीं समझना चाहिये कि भगवान तुमसे रूष्ट हैं और वह तुम्हें और तुम्हारे परिवार को भूखा रखना चाहते हैं लेकिन मैं उसका सेवक हूँ, अगर मैं तुम्हारा पेट भर दूं तो ईश्वर मुझ पर रूष्ट होगा ही। मैं ईश्वर के विरुद्ध नहीं जा सकता, न बाबा ना! मैं तुम्हें भोजन नहीं करा सकता, क्योंकि यह सब कोई पापी ही कर सकता है।”

बीरबल का यह जवाब सुनकर वह चला गया। उसने इस बात की बादशाह और दरबारियों को सूचना दी।
बादशाह अब यह समझ गए कि बीरबल ने उसकी चालाकी पकड़ ली है। अगले दिन बादशाह ने बीरबल से पूछा, “बीरबल तुम्हारे धर्म-कर्म की बड़ी चर्चा है पर तुमने कल एक भूखे को निराश ही लौटा दिया, क्यों?”
“आलमपनाह! मैंने किसी भूखे को नहीं, बल्कि एक ढोंगी को लौटा दिया था और मैं यह बात भी जान गया हूँ कि वह ढोंगी आपके कहने पर मुझे बेवकूफ बनाने आया था।”

अकबर ने कहा, “बीरबल! तुमनें कैसे जाना कि यह वाकई भूखा न होकर, ढोंगी है?”
“उसके पैरों और पैरों की चप्पल देखकर। यह सच है कि उसने अच्छा भेष बनाया था, मगर उसके पैरों की चप्पल कीमती थी।”

बीरबल ने आगे कहा, “माना कि चप्पल उसे भीख में मिल सकती थी, पर उसके कोमल, मुलायम पैर तो भीख में नहीं मिले थे, इसलिए कंकड क़ी गड़न सहन न कर सके।”

इतना कहकर बीरबल ने बताया कि किस प्रकार उसने उस मनुष्य की परीक्षा लेकर जान लिया कि उसे नंगे पैर चलने की भी आदत नहीं, वह दरिद्र नहीं बल्कि किसी अच्छे कुल का खाता कमाता पुरूष है।”

बादशाह बोले, “क्यों न हो, वह मेरा खास सैनिक है।” फिर बहुत प्रसन्न होकर बोले, “सचमुच बीरबल! माबदौलत तुमसे बहुत खुश हुए! तुम्हें धोखा देना आसान काम नहीं है।”

बादशाह के साथ साजिश में शामिल हुए सभी दरबारियों के चेहरे बुझ गए।

Foot and slippers - Akbar Birbal Story

Birbal was a very noble heart person. He used to donate, and not only that, he used to divide the reward from the emperor mostly into the poor and the poor, but in spite of this he had no lack of money. Along with donating, Birbal was also cautious with the fact that the hypocrite person did not cheat by showing him his humility.

Similarly, Akbar Badshah, in collaboration with the courtiers, made a plan to see if Birbal can be recognized or not, the true poor distressed ones. The emperor changed his attendant and sent him to Birbal in an infirm state that if he would bring something from Birbal as a financial aid, then he would get reward from Akbar.

One day when Birbal was coming from the temple after worshiping the temple, a reputed soldier came in front of Birbal and said, "Hujoor Diwan! I and my eight little children are hungry for eight days .... God says that feeding hungry is a work of virtue, I hope you will earn virtue by giving me some donations. "

Birbal looked at that man from head to foot and in a moment he recognized that he is not like he is showing off.

Beerbal mind smiled, and without speaking a few words, it started on the path from which one had to cross a river. The person also walked behind Birbal. Birbal took off the shoe and crossed his hand to cross the river. The person also tried to take the old shoe of his leg in hand.

After crossing the Birbal river, after walking a conical path, wearing a shoe after walking two or four steps. Birbal had also noticed that due to washing his feet while crossing the river, the person was showing a clean, sleek, soft white skin, so he could not walk on the crispy way with soft feet.
"Crazy! Did you not listen to the call of Deen Taphin? "The person coming back said.

Birbal said, "How can I hear the call of my sinner? "
"What did you say? Will you help me to become a sinner? "

"Yes, that is because it is written in the scriptures that even before the baby is born, God arranges for his meal and gives milk in his mother's breasts, arranges food for him. It is also said that God raises the hunger to the hungry but the hungry is not solace. After all these things, you are saying your hunger for eight days. Looking at all these situations, it should be understood that God is interested in you and he wants to keep you and your family hungry, but I am his servant, if I fill your stomach, then God will be angry with me. I can not go against God, no Baba! I can not feed you, because all this can be done by any sinner. "

He heard that Birbal heard this. He informed the ruler and the court officials about this.

The King now understood that Birbal has captured his tricks. The next day, the king asked Birbal, "Birbal is a big discussion of your religion, but you returned a hungry to disappointment tomorrow, why?"

"Hello! I had not returned to a hunger but rather a hunger, and I have also come to know that this creep came to fool me on your saying. "
Akbar said, "Birbal! How do you know that it is really crazy, not hungry? "

"Seeing his feet and feet sandal. It is true that he had made a good deception, but the sandal of his feet was precious. "

Birbal further said, "Believe that sandal may have got him in the begging, but his soft, soft feet did not get into the begging, so that the crank could not bear the collision."

By saying so, Birbal told how he examined the man and realized that he does not have the habit of walking barefoot, he is not a poor person, but a good man's account earns a man.

The king said, "Why not, he is my special soldier." Then very happy and said, "Really Birbal! Mabadolto was very happy with you! It's not easy to cheat on you. "

The faces of all the courtiers who were involved in the plot with the king were extinguished. 

अपने मित्रों के साथ शेयर करें

अपने सुझाव और विचार लिखें
Notification
Hindi Files is Under Maintenance, Please Check later for full version.
Done