सब लोग एक जैसा सोचते हैं - अकबर बीरबल की कहानी - HindiFiles.com - The Best Hindi Blog For Stories, Quotes, Status & Motivational Content.
हाल ही मे किए गए पोस्ट
Loading...

08 February, 2020

सब लोग एक जैसा सोचते हैं - अकबर बीरबल की कहानी

सब लोग एक जैसा सोचते हैं - अकबर बीरबल की कहानी 

दरबार की कार्यवाही चल रही थी। सभी दरबारी एक ऐसे प्रश्न पर विचार कर रहे थे जो राज-काज चलाने की दृष्टि से बेहद अहम न था। सभी एक-एक कर अपनी राय दे रहे थे। बादशाह दरबार में बैठे यह महसूस कर रहे थे कि सबकी राय अलग है। उन्हें आश्चर्य हुआ कि सभी एक जैसे क्यों नहीं सोचते!

तब अकबर ने बीरबल से पूछा, “क्या तुम बता सकते हो कि लोगों की राय आपस में मिलती क्यों नहीं ? सब अलग-अलग क्यों सोचते हैं ?”

“हमेशा ऐसा नहीं होता, बादशाह सलामत !” बीरबल बोला, “कुछ समस्याएं ऐसी होती हैं जिन पर सभी के विचार समान होते हैं।” इसके बाद कुछ और काम निपटा कर दरबार की कार्यवाही समाप्त हो गई। सभी अपने-अपने घरों को लौट चले।

उसी शाम जब बीरबल और अकबर बाग में टहल रहे थे तो बादशाह ने फिर वही राग छेड़ दिया और बीरबल से बहस करने लगे।

तब बीरबल बाग के ही एक कोने की ओर उंगली से संकेत करता हुआ बोला, “वहां उस पेड़ के निकट एक कुआं है। वहां चलिए, मैं कोशिश करता हूं कि आपको समझा सकूं कि जब कोई समस्या जनता से जुड़ी हो तो सभी एक जैसा ही सोचते हैं। मेरे कहने का मतलब यह है कि बहुत सी ऐसी बातें हैं जिनको लेकर लोगों के विचार एक जैसे होते हैं।”

अकबर ने कुछ देर कुंए की ओर घूरा, फिर बोले, “लेकिन मैं कुछ समझा नहीं, तुम्हारे समझाने का ढंग कुछ अजीब सा है।” बादशाह जबकि जानते थे कि बीरबल अपनी बात सिद्ध करने के लिए ऐसे ही प्रयोग करता रहता है।

“सब समझ जाएंगे हुजूर !” बीरबल बोला, “आप शाही फरमान जारी कराएं कि नगर के हर घर से एक लोटा दूध लाकर बाग में स्थित इस कुएं में डाला जाए। दिन पूर्णमासी का होगा। हमारा नगर बहुत बड़ा है, यदि हर घर से एक लोटा दूध इस कुएं में पड़ेगा तो यह दूध से भर जाएगा।”

बीरबल की यह बात सुन अकबर ठहाका लगाकर हंस पड़े। फिर भी उन्होंने बीरबल के कहेनुसार फरमान जारी कर दिया।

शहर भर में मुनादी करवा दी गई कि आने वाली पूर्णमासी के दिन हर घर से एक लोटा दूध लाकर शाही बाग के कुएं में डाला जाए। जो ऐसा नहीं करेगा उसे सजा मिलेगी।

पूर्णमासी के दिन बाग के बाहर लोगों की कतार लग गई। इस बात का विशेष ध्यान रखा जा रहा था कि हर घर से कोई न कोई वहां जरूर आए। सभी के हाथों में भरे हुए पात्र (बरतन) दिखाई दे रहे थे।

बादशाह अकबर और बीरबल दूर बैठे यह सब देख रहे थे और एक-दूसरे को देख मुस्करा रहे थे। सांझ ढलने से पहले कुएं में दूध डालने का काम पूरा हो गया हर घर से दूध लाकर कुएं में डाला गया था। जब सभी वहां से चले गए तो अकबर व बीरबल ने कुएं के निकट जाकर अंदर झांका। कुआं मुंडेर तक भरा हुआ था। लेकिन यह देख अकबर को बेहद हैरानी हुई कि कुएं में दूध नहीं पानी भरा हुआ था। दूध का तो कहीं नामोनिशान तक न था।
हैरानी भरी निगाहों से अकबर ने बीरबल की ओर देखते हुए पूछा, “ऐसा क्यों हुआ ? शाही फरमान तो कुएं में दूध डालने का जारी हुआ था, यह पानी कहां से आया ? लोगों ने दूध क्यों नहीं डाला ?”

बीरबल एक जोरदार ठहाका लगाता हुआ बोला, “यही तो मैं सिद्ध करना चाहता था हुजूर ! मैंने कहा था आपसे कि बहुत सी ऐसी बातें होती हैं जिस पर लोग एक जैसा सोचते हैं, और यह भी एक ऐसा ही मौका था। लोग कीमती दूध बरबाद करने को तैयार न थे। वे जानते थे कि कुएं में दूध डालना व्यर्थ है। इससे उन्हें कुछ मिलने वाला नहीं था। इसलिए यह सोचकर कि किसी को क्या पता चलेगा, सभी पानी से भरे बरतन ले आए और कुएं में उड़ेल दिए। नतीजा…दूध के बजाय पानी से भर गया कुआं।”

बीरबल की यह चतुराई देख अकबर ने उसकी पीठ थपथपाई।
बीरबल ने सिद्ध कर दिखाया था कि कभी-कभी लोग एक जैसा भी सोचते हैं।

Everyone thinks alike - Akbar Birbal Story

The court proceedings were going on. All the courtiers were contemplating a question which was not very important in terms of running the Raj. All were giving their opinion one by one. The Emperor sitting in the court was feeling that everyone's opinion was different. They were surprised that they do not think all the same!

Then Akbar asked Birbal, "Can you tell why people's opinions do not meet together? Why do all think differently? "

"This is not always the case, the king is safe!" Birbal said, "There are some problems on which everyone's thoughts are the same." After this, the court proceedings ended. All returned to their homes.

The same evening when Birbal and Akbar were walking in the garden, the king again made the same rage and started debating with Birbal.

Then pointing to a corner of Birbal Bagh, pointing to the finger, "There is a well near that tree. Let's go there, I try to explain to you that when a problem is related to the public, then everyone thinks the same. I mean to say that there are many things about which people's thoughts are the same. "

Akbar turned towards the well for some time, then he said, "But I have not understood anything, the way of your explanation is somewhat strange." While the king knew that Birbal used such experiments to prove his point.

"Everyone will understand it!" Birbal said, "You must issue a royal decree that you should bring a lotus milk from every house in the town and put it in this well located in the garden. Day would be a full moon day Our city is very big, if a lota milk from every house falls in this well it will be filled with milk. "

Listen to Birbal's story, Akbar laughs and laughs. However, he issued the order of Birbal's order.
There was a proclamation throughout the city that on the full moon day, bring a lotus milk from every house and put it in the well of the royal garden. The person who is not going to do this will be punished

On the full moon day, the people queued outside the garden. There was a special care that someone from every house would have come there. The vessel filled in the hands of everyone was visible.

Emperor Akbar and Birbal were sitting away watching this and smiling at each other. Before dawn, the milking work was completed in the well, it was brought to the well by bringing milk from every house. When all went from there, Akbar and Birbal approached the well and got inside the vault. The well was filled up till the brim. But seeing Akbar very surprised that the water in the well was filled with milk. There was not even a trace of milk anywhere.

With astonishing eyes, Akbar looked at Birbal and asked, "Why did this happen? Shahi decree was released to put milk in well, where did this water come from? Why did not people put milk? "
Birbal said, "I wanted to prove that it happened!" I told you that there are many things that people think of as one, and that was also such a chance. The people were not willing to waste precious milk. They knew that it was useless to pour milk in the well. He would not have got anything out of this. So by thinking of what anyone will know, bring all the utensils filled with water and boil in the well. The result ... the well filled with water instead of milk. "\

Seeing this trick of Birbal, Akbar patted his back.
Birbal proved that sometimes people think of the same kind.

अपने मित्रों के साथ शेयर करें

अपने सुझाव और विचार लिखें
Notification
Hindi Files is Under Maintenance, Please Check later for full version.
Done