अष्टावक्र गीता आठवाँ अध्याय- Eighth Chapter of Ashtavakra Geeta in Hindi - HindiFiles.com - The Best Hindi Blog For Stories, Quotes, Status & Motivational Content.
हाल ही मे किए गए पोस्ट
Loading...

06 March, 2020

अष्टावक्र गीता आठवाँ अध्याय- Eighth Chapter of Ashtavakra Geeta in Hindi

Eighth Chapter of Ashtavakra Geeta in Hindi- महापंडित एवं विद्वान अष्टावक्र की बुद्धिमत्ता से आप सभी लोग परिचित होंगे। जनक की सभा मे उन्होने बंदी से शास्त्रार्थ करके अपनी विद्वता का परिचय दिया था। और बंदी को उनके अहंकार के बारे मे ज्ञात करवाया था। उन्ही के द्वारा रचित महागीता का यहाँ आठवाँ अध्याय प्रस्तुत है।

आपकी सरलता और आसानी के लिए हमने यहाँ पर अष्टावक्र गीता (Ashtavakra Geeta) के श्लोक संस्कृत के साथ साथ हिन्दी और अङ्ग्रेज़ी भावार्थ के साथ प्रकाशित किए हैं। जिससे आपको अध्ययन करने मे आसानी हो।
Ashtavakra Geeta in Hindi
Eighth Chapter of Ashtavakra Geeta in Hindi

अष्टावक्र गीता आठवाँ अध्याय- Eighth Chapter of Ashtavakra Geeta in Hindi

अष्टावक्र उवाच - तदा बन्धो यदा चित्तं किन्चिद् वांछति शोचति।
किंचिन् मुंचति गृण्हाति किंचिद् हृष्यति कुप्यति॥८-१॥


श्री अष्टावक्र कहते हैं - तब बंधन है जब मन इच्छा करता है, शोक करता है, कुछ त्याग करता है, कुछ ग्रहण करता है, कभी प्रसन्न होता है या कभी क्रोधित होता है॥१॥

Sri Ashtavakra says: There is bondage, as long as mind desires something,
grieves about something, sacrifices something, accepts something, is pleased about something or is angry about something.॥1॥

तदा मुक्तिर्यदा चित्तं न वांछति न शोचति।
न मुंचति न गृण्हाति न हृष्यति न कुप्यति॥८- २॥


तब मुक्ति है जब मन इच्छा नहीं करता है, शोक नहीं करता है, त्याग नहीं करता है, ग्रहण नहीं करता है, प्रसन्न नहीं होता है या क्रोधित नहीं होता है॥२॥

Liberation is when mind does not desire, does not grieve,
does not sacrifice, does not accept, is not pleased or get angry.॥2॥

तदा बन्धो यदा चित्तं सक्तं काश्वपि दृष्टिषु।
तदा मोक्षो यदा चित्तम- सक्तं सर्वदृष्टिषु॥८- ३॥


तब बंधन है जब मन किसी भी दृश्यमान वस्तु में आसक्त है, तब मुक्ति है जब मन किसी भी दृश्यमान वस्तु में आसक्तिरहित है ॥३॥

There is bondage when mind is attracted towards any of the visible things and
liberation is when mind is not attracted to anything visible.॥3॥

यदा नाहं तदा मोक्षो यदाहं बन्धनं तदा।
मत्वेति हेलया किंचिन्- मा गृहाण विमुंच मा॥८- ४॥


जब तक 'मैं' या 'मेरा' का भाव है तब तक बंधन है, जब 'मैं' या 'मेरा' का भाव नहीं है तब मुक्ति है।
यह जानकर न कुछ त्याग करो और न कुछ ग्रहण ही करो ॥४॥

There is bondage, as long as there is feeling of 'I' and 'my' and
liberation is when there is no feeling of 'I' and 'my'. Knowing this stay playful neither accepting nor sacrificing anything.॥4॥

कहा जाता है कि अष्टावक्र द्वारा रचित महागीता का एक श्लोक हज़ार माणिकों की तुलना मे भी बहुत अमूल्य है क्यूंकी अष्टावक्र गीता (Ashtavakra Geeta) के श्लोकों मे गागर मे सागर भरने जैसा बताया गया है। लोक हित के लिए गीता बहुत ही महत्वपूर्ण ग्रंथ है जिसे पढ़ना भी आवश्यक है।

अगर अष्टावक्र गीता से संबन्धित किसी भी सलाह सुझाव या शिकायत के लिए आप अपना कीमती विचार Comments के माध्यम से हम तक पहुंचाए। इसके अतिरिक्त आप इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

Tags- ashtavakra gita osho, ashtavakra mahageeta, osho ashtavakra mahageeta, ashtavakra mahageeta by osho, ashtavakra maha geeta, mahageeta. 

अपने मित्रों के साथ शेयर करें

अपने सुझाव और विचार लिखें
Notification
Hindi Files is Under Maintenance, Please Check later for full version.
Done